मुझे याद है MUJHE YAAD HAI Lyrics- Yasser Desai Lyrics in hindi

मुझे याद है MUJHE YAAD HAI  Lyrics- Yasser Desai Lyrics in hindi


Singer Yasser Desai यास्सेर देसाई
Music Hitarth हितार्थ
Song Writer Kunwar Naveen Singh कुंवर नवीन सिंह

MUJHE YAAD HAI  Lyrics in Hindi

चंद अलफ़ाज़ ही सही
कुछ कहता तो है
याद बांके लहू में
तू ही तू बेहटा तो है

मेरी साँसों में रहने वाले
मुझको यह बता
दिल को दिल से कैसे
करते हैं हाँ जुड़ा

ठहर सा गया है बीता वह कल
वह सदियों के जैसे महोब्बत के पल
वह मौसम तू जो बदला नहीं
वह दर्द मेरे सहना
वह ख़ामोशी को पढ़ लेना
वह दिल की जुबां कहना
कहना कहना

मुझे याद है , मुझे याद है
मुझे याद है वह चाहत के पल
मुझे याद है , मुझे याद है
मुझे याद है हर बीता वह कल

कहा -सुना भूले नहीं
बस बेखबर हो गए
थोड़ी राजा थोड़ा गुनाह
और बेकदर हो गए



है दिल परेशान मन नहीं
जुदाई की रस्मों को जाना नहीं
वह मेरी ख़ुशी में खुश होकर
गले से लगाना तेरा
तू दूर रहा या पास रहा
पर साथ ही रहना तेरा

मुझे याद है , मुझे याद है
मुझे याद है वह चाहत के पल
मुझे याद है , मुझे याद है
मुझे याद है हर बीता वह कल

बिन तेरे जी लेंगे
फिर छूटा यह फितूर ले चले
तेरी ख़ुशी के ही वास्ते
तुझसे दूर हो चले

जो हमको मिली है
वह ग़म की सौगातें
इस तनहा सफर की
सब सेहरा सब रातें

दील पे जो लिखी है
हर दास्ताँ पुरानी
हमसे जो खफा थी
वह भीगी बरसातें

मुझे याद है , मुझे याद है
मुझे याद है वह चाहत के पल
मुझे याद है , मुझे याद है
मुझे याद है हर बीता वह कल

चंद अलफ़ाज़ ही सही
कुछ कहता तो है
याद बांके लहू में
तू ही तू बेहटा तो है

मेरी साँसों में रहने वाले
मुझको यह बता
दिल को दिल से कैसे
करते हैं हाँ जुड़ा

ठहर सा गया है बीता वह कल
वह सदियों के जैसे महोब्बत के पल
वह मौसम तू जो बदला नहीं
वह दर्द मेरे सहना
वह ख़ामोशी को पढ़ लेना
वह दिल की जुबां कहना
कहना कहना

मुझे याद है , मुझे याद है
मुझे याद है वह चाहत के पल
मुझे याद है , मुझे याद है
मुझे याद है हर बीता वह कल

कहा -सुना भूले नहीं
बस बेखबर हो गए
थोड़ी राजा थोड़ा गुनाह
और बेकदर हो गए



है दिल परेशान मन नहीं
जुदाई की रस्मों को जाना नहीं
वह मेरी ख़ुशी में खुश होकर
गले से लगाना तेरा
तू दूर रहा या पास रहा
पर साथ ही रहना तेरा

मुझे याद है , मुझे याद है
मुझे याद है वह चाहत के पल
मुझे याद है , मुझे याद है
मुझे याद है हर बीता वह कल

बिन तेरे जी लेंगे
फिर छूटा यह फितूर ले चले
तेरी ख़ुशी के ही वास्ते
तुझसे दूर हो चले

जो हमको मिली है
वह ग़म की सौगातें
इस तनहा सफर की
सब सेहरा सब रातें

दील पे जो लिखी है
हर दास्ताँ पुरानी
हमसे जो खफा थी
वह भीगी बरसातें

मुझे याद है , मुझे याद है
मुझे याद है वह चाहत के पल
मुझे याद है , मुझे याद है
मुझे याद है हर बीता वह कल



Post a comment

0 Comments